Tuesday 27 July 2010

अल्लाह

अल्लाह मेरी आह मे इतना असर तो भर दे,
दुनिया के दहशतगर्दों को तू खाक तो कर दे,

नफ़रतों का दौर है तेरी दुनिया मे आजकल,
इन लोगों मे ज़रा प्यार के ज़ज्बात तो भर दे,

है इंसानियत नदारद दुनिया से तेरी या रब,
इंसान को ज़रा फिर इंसान सा तो कर दे,

बेआस बेसहारा जो दर-दर भटक रहें हैं,
वो मासूम से बच्चे हैं उन्हें आसरा तो कर दे,

चैन हो अमन हो, जिस दुनिया मे हो मोहब्बत,
ऐसी भी एक दुनिया का आगाज़ तो कर दे.

7 comments:

  1. गजल के भाव बहुत सुन्दर लगे। बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  2. जिसके नाम से फ़ैला है दर्द,
    उसी से दुआ मांग रहे हो।
    इस दर्द को देखने तक की उसे फ़ुर्सत नहिं
    एक कम है जो नया आगाज़ मांग रहे हो।

    बाकि रचना बहुत सुन्दर है।

    ReplyDelete
  3. yaqeenan aapki sadeaupar wala sunega aapki aah men itnee shiddat jo hai

    aur haan BAJRANG DAL, SHIV SENA aur SRI RAAM SENA ke liye atirikt bad-dua dijiyega !!!

    saleem

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. हौसला अफज़ाई का बहुत बहुत शुक्रिया

    ReplyDelete
  6. Yaar Here is Ur Software

    Cisco Packet Tracer 5.3 Torrent

    Download Link :-

    http://thepiratebay.org/torrent/5603855

    ReplyDelete